You are currently viewing मोटर वाहन बीमा क्या है, पूरी जानकारी हिंदी में
Motor Insurance

मोटर वाहन बीमा क्या है, पूरी जानकारी हिंदी में

Motor Insurance: मोटर बीमा का नाम तो आपने सुना ही होगा। अगर आपको मोटर बीमा के बारे में जानकारी नहीं है, तो इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़ें. आज के इस आर्टिकल में आपको मोटर बीमा से संबंधित है संपूर्ण जानकारी विस्तार से बताई गई है।

मोटर बीमा क्या है (Motor Insurance)

Motor Insurance किसी भी वाहन के मालिक के लिए बहुत ही जरूरी होता है। मोटर बीमा के द्वारा सभी प्रकार के वाहनों के लिए बीमा किया जाता है। मोटर बीमा किसी भी वाहन के साथ दुर्घटना चोरी या वाहन को किसी भी प्रकार का नुकसान पहुंचता है, तो उस दौरान यह बीमा फाइनेंस सुविधा प्राप्त करवाता है। इस बीमा के दौरान अगर दुर्घटना या चोरी के कारण किसी भी प्रकार की शारीरिक चोट को भी कवर किया जाता है।

वाहन बीमा
मोटर बीमा

मोटर बीमा कितने प्रकार के होते हैं

Motor Insurance वाहन दुर्घटना या वाहन की चोरी से जो भी नुकसान होता है उसको कवर करने के लिए मोटर बीमा बहुत ही जरूरी है। मोटर बीमा भी तीन प्रकार के होते हैं, जोकि निम्नलिखित हैं।

  1. कार बीमा : नाम से ही पता चलता है, कि यह बीमा मुख्य रूप से कारों के लिए है। इस बीमा को सभी व्यक्तिगत कार्यों के लिए माननीय किया जाता है, ना कि कमर्शियल उद्देश्य के लिए इसका इस्तेमाल होता है। अगर आपकी कार है, तो आप उस कार के लिए यह बीमा करवा सकते हैं।
  2. टू व्हीलर इंश्योरेंस बीमा : यह बीमा मुख्य रूप से बाइक, स्कूटर, स्कूटी आदि टू व्हीलर वाहनों के लिए है। इस बीमा के तहत मालिक को टू व्हीलर से जुड़े सभी जोखिमों के लिए कवरेज प्राप्त करने में मदद मिलती है।
  3. कमर्शियल वाहन बीमा : कमर्शियल वाहन बीमा उन वाहनों के लिए होता है। जिनका उपयोग किसी भी प्रकार के निजी कार्य के लिए नहीं किया जाता है। जिन वाहनों का उपयोग माल या यात्रियों को एक स्थान से दूसरे स्थान पर पहुंचाने के लिए किया जाता है। उनके लिए कमर्शियल वाहन बीमा होता है। इस वाहन बीमा के तहत व्यवसायिक वाहन में होने वाले नुकसान की भरपाई के लिए सहायता मिलती है।

इसे भी पढ़े – Personal Loan ke liye kaise apply kare

मोटर बीमा खरीदने के लिए आवश्यक दस्तावेज  

मोटर बीमा खरीदने के लिए भी कुछ महत्वपूर्ण दस्तावेजों की आवश्यकता होती है, जोकि निम्नलिखित है।

  1. वाहन के मालिक का पासपोर्ट साइज फोटो
  2. ड्राइविंग लाइसेंस या पैन कार्ड
  3. स्थाई निवास का प्रमाण पत्र
  4. वाहन की RC

मोटर बीमा खरीदने के लिए योग्यताएं व शर्तें

हमारे देश में निजी दोपहिया वाहनों और कॉमर्शियल वाहनों के लिए मोटर बीमा खरीदना अनिवार्य है। मोटर बीमा खरीदने के लिए आपके पास एक वाहन होना बहुत ही जरूरी है। वह वाहन नया हो या पुराना उससे कोई भी फर्क नहीं पड़ता है। उसके साथ ही वाहन के मालिक की आयु 18 वर्ष से अधिक होनी चाहिए, और वह भारत का नागरिक होना चाहिए। साथ ही उसके पास वाहन की RC भी होना बहुत ही अनिवार्य है।

Motor Insurance क्लेम के लिए आवश्यक दस्तावेज़

अगर आपको मोटर बीमा का क्लेम लेना है तो उसके लिए यह भी जाना बहुत ही जरूरी है, कि मोटर बीमार एक्सप्लेन लेने के लिए कौन कौन से दस्तावेज जरूरी है।

जब आपके वाहन के साथ किसी भी प्रकार की दुर्घटना या नुकसान होता है, तो आप बीमा कंपनी के टोल फ्री नंबर पर उस घटना के बारे में बताएं, और साथ ही शिकायत दर्ज करें. उसके बाद बीमा कंपनी आपसे नीचे दिए गए इन राजस्थान भेजो को जमा करने का कहेंगी।

  1. भरा हुआ फॉर्म
  2. ड्राइविंग लाइसेंस
  3. वाहन की RC
  4. I.R. (दुर्घटना के मामले में)
  5. पुलिस द्वारा जारी किए गए नॉन-ट्रेसेबल सर्टिफिकेट (चोरी के मामले में)
  6. मरम्मत कोटेशन (यदि कैशलेस सेवा का विकल्प नहीं है)

मोटर वाहन बीमा का क्लेम कैसे लें  

मोटर वाहन बीमा कंपनी से बीमा का क्लेम लेने के लिए भी एक प्रक्रिया होती हैं। नीचे दी गई इस प्रक्रिया को फॉलो करके आप मोटर बीमा का क्लेम ले सकते है।

  • सर्वप्रथम किसी भी क्लेम के बारे में तुरंत बीमा कंपनी को सूचना दें, और अपना क्लेम दर्ज करवाएं।
  • दुर्घटना में वाहन को जो भी नुकसान हुआ है। उसके मामले में बीमा कंपनी वाहन का सर्वे करने के लिए एक व्यक्ति को भेजेगी।
  • जब वह व्यक्ति आकर आपके वाहन का सर्वे वेरिफिकेशन कर रहा होता हैं। वह समय वाहन के मालिक को ही सभी दस्तावेज प्रस्तुत करने हैं।
  • बीमा धारक को मोटर बीमा का क्लेम लेने के लिए पुलिस थाने में एफ आई आर दर्ज करने होती हैं।
  • जब क्लेम की मंजूरी मिल जाती है, तो उसके बाद में बीमा धारक उस बहन की मरम्मत करवा सकता हैं।
  • वाहन की मदद के लिए जो भी बिल बनता हैं। वह बीमा कंपनी के द्वारा गैराज में भुगतान कर दिया जाता हैं।

मोटर बीमा को रिन्यूअल करवाने की प्रक्रिया

किसी भी मोटर बीमा की पॉलिसी की समय अवधि मुख्य रूप से 1 वर्ष से लेकर 3 वर्ष तक होती हैं। उसके बाद पॉलिसी धारक बीमा कंपनी की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर इस बीमा को ऑनलाइन रिन्यू कर सकता हैं।

मोटर बीमा रिन्यूअल के समय पॉलिसी धारक को नो क्लेम बोनस (NCB) के बारे में पता होना चाहिए। यह हर क्लेम-फ्री वर्ष के लिए दिया जाने वाला बोनस है। NCB आपके वाहन को चलाते समय सुरक्षा विकल्पों का पालन करने के लिए एक इनाम के रूप में रिन्युअल के समय आपकी पॉलिसी के प्रीमियम में छूट प्रदान करता है।

भारत में मोटर बीमा प्रदान करने वाली कंपनी

भारत में मोटर बीमा प्रदान करने वाली कंपनियां बहुत है, लेकिन मुख्य रूप से निम्नलिखित कंपनियां है, जो कि बहुत विश्वास जनक है, और इन कंपनियों से मोटर बीमा लेना सुरक्षित भी हैं।

  1. Bajaj Allianz
  2. Bharti AXA
  3. HDFC Ergo
  4. ICICI Lombard
  5. ROYAL Sundaram

मुख्य रूप से यह पांच मोटर बीमा कंपनियां है, जो कि विश्वासजनक है, और इन कंपनियों से आप अपने वाहन के लिए मोटर बीमा खरीद सकते हैं।

मोटर बीमा के लाभ

यातायात नियमों का पालन ना करने से देश भर में हर रोज कई हादसे होते हैं, और इन हादसों की संख्या भी बहुत बढ़ रही हैं। लेकिन अगर कोई भी वाहन मालिक मोटर बीमा खरीद देता है तो हादसे में होने वाले नुकसान की भरपाई बीमा कंपनी द्वारा करवाई जाती हैं। मोटर बीमा के माध्यम से मिलने वाले लाभ निम्नलिखित हैं।

  1. आपकी देनदारियों को कम करता है

यदि किसी बीमा धारक के वाहन से थर्ड पार्टी को नुकसान होता है, तो बीमा कंपनी उस नुकसान के लिए लायबिलिटी का भुगतान करती हैं। साथ ही आपको किसी भी कानूनी देनदारियों से भी मुक्त करता है, और यह घटना के कारण हो सकती हैं।

  1. नुकसान पहुंचे हुए वाहन का कवर

अगर इस सड़क दुर्घटना के दौरान मानव त्रुटि के कारण वाहन को किसी भी प्रकार का नुकसान पहुंचता है, तो उस नुकसान को बीमा पॉलिसी के तहत कवर किया जाता है, कवर प्रक्रिया कैशलेस या इंबर्समेंट होती है। अस्पताल में बिल का भुगतान भी बीमा कंपनी द्वारा व्यक्तिगत दुर्घटना कवरेज के तहत किया जाता है।

  1. मृत्यु पर क्लेम

किसी भी प्रकार की दुर्घटना में आजा किसी व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है, तो होने वाली मृत्यु के मामले में बीमा धारक के परिवार को बीमा कंपनी की तरफ से मुआवजा मिलता है।

मोटर बीमा के यह मुख्य लाभ है, मोटर बीमा खरीद कर आप भी इन लाभ का फायदा उठा सकते हैं।

Conclusion

मोटर बीमा वाहनों के लिए बहुत ही जरूरी होता है। वाहनों के साथ-साथ सड़क दुर्घटना में होने वाले किसी भी प्रकार की जान माल की हानि के लिए भी यह बहुत महत्वपूर्ण होते हैं। साथ ही भारत में मोटर बीमा करवाना अनिवार्य है। इसलिए हम आप सभी आप को यही सलाह देते हैं, कि अगर आपके पास किसी भी प्रकार का कोई वाहन है, तो आप उसका मोटर बीमा जरूर करवा लें.

Leave a Reply